Subramanyam Jaishanakr In hindi , सुब्रमण्यम जयशंकर – हिंदी में

सुब्रमण्यम जयशंकर की जीवनी , विकी , जन्म , परिवार ,शिक्षा , पत्नी , गर्लफ्रैंड , नेट वर्थ , कार कलेक्शन , रोचक बातें , विवाद , संपर्क जानकारी , ( Subramanyam Jaishanakr biography, wiki, birth, family, education, wife, girlfriend, net worth, car collection, interesting things, controversy, contact information, )

s_jayshankar_hindi

सुब्रमण्यम जयशंकर – आज हम एक ऐसी शख्सियत के बारे में बात करने वाले हैं जो पूर्व में भारत (india) के विदेश सचिव ( Foreign Secretary of India ) रह चुके हैं,
और वर्तमान 2020 में केंद्र सरकार में विदेश मंत्री (Ministry of External Affairs) के कार्य पर कार्यरत है, इनका नाम आपने सुना ही होगा, हम बात कर रहे हैं,
भारत के वर्तमान विदेश मंत्री सुब्रमण्यम जयशंकर (subramanyam Jaisankar) जो पद्मश्री से सम्मानित है, तो आज हम सुब्रमण्यम जयशंकर (subramanyam Jaisankar) के बारे में आप लोगों को विस्तार से बताएंगे,
हम आज सुब्रमण्यम जयशंकर (subramanyam Jaisankar) देते जन्म बचपन कैरियर और उन सभी सुने अनसुने पहलुओं के बारे में इस लेख में बात करेंगे,
जिनके बारे में आपने कई बार सुना होगा तो चलिए जानते हैं, सुब्रमण्यम जयशंकर( s Jaisankar in hindi) जी के बारे में :-

1.सुब्रमण्यम जयशंकर जी का जन्म कहां हुआ

2.सुब्रमण्यम जयशंकर जी की प्रारंभिक शिक्षा

3.सुब्रमण्यम जयशंकर जी की शादी एवं परिवार

4.कैरियर के बारे में

5.संपर्क कैसे करें

सुब्रमण्यम जयशंकर जी का जन्म कहां हुआ

09 जनवरी 1955 को भारत के नई दिल्ली जो भारत की राजधानी है, उस में जन्म लिया सुब्रमण्यम जयशंकर जी (subramanyam Jaisankar) ने जिन्हें एस जयशंकर (s Jaisankar) के नाम से भी जाना जाता है, जो एक तमिल परिवार से ताल्लुक रखते थे,
इनके पिता आईएएस ऑफिसर (IAS OFFICER) थे, जिनका नाम के सुब्रमण्यम (K subramanyam) और जिन्हें फादर ऑफ इंडियन स्ट्रैटेजिक थॉट्स माने जाते थे, और यदि उनकी माता जी के  विषय में बात की जाए, तो इनकी माता का नाम “सुलोचना” है, जिन्होंने संगीत में पीएचडी की हुई है।
उनके दो भाई जो जाने-माने इतिहासकार संजय सुब्रमण्यम और भारत के पूर्व ग्रामीण विकास सचिव एस विजय कुमार है।

सुब्रमण्यम जयशंकर की व्यक्तिगत जानकारी
वास्तविक नाम सुब्रमण्यम जयशंकर
उपनाम सुब्रमण्यम
व्यवसाय पूर्व विदेश सचिव और केंद्र सरकार में विदेश मंत्री
जन्मतिथि ९ जनवरी १ ९ ५५
जन्मस्थान नई दिल्ली
धर्म हिन्दू
जाति ज्ञात नहीं है

सुब्रमण्यम जयशंकर जी की प्रारंभिक शिक्षा

एस शंकर या सुब्रमण्यम जयशंकर जी (subramanyam Jaisankar in Hindi )की प्रारंभिक शिक्षा की यदि बात की जाए, तो इनकी प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के श्री निवास पुरी स्थित कैंब्रिज स्कूल में हुई, स्कूली पढ़ाई पूर्ण करने के बाद उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफंस कॉलेज से बैचलर ऑफ आर्ट किया।
तदनंतर इन्होंने अपनी m.a. की शिक्षा जवाहरलाल यूनिवर्सिटी से राजनीति शास्त्र में पूर्ण की तथा यही जेएनयू से इन्होंने अंतरराष्ट्रीय संबंध में एमफिल और पीएचडी की शिक्षा प्राप्त की


इनके जवाहरलाल यूनिवर्सिटी अर्थात  जेएनयू (JNU) में एडमिशन लेने की एक दिलचस्प कहानी है, ऐसा माना जाता है, कि यह एडमिशन लेने तो  आयआयटी गए थे, लेकिन पास ही जेएनयू  में भीड़ देखने पहुंच गए  और वहा एडमिशन ले कर वापस लौटे

सुब्रमण्यम जयशंकर जी की शादी एवं परिवार

सुब्रमण्यम जयशंकर जी(subramanyam Jaisankar in hindi ) की पहली शादी उन्हीं के साथ जेएनयू में पढ़ने वाली “शोभा जी” से हुई थी, जिनके अभी मृत्यु हो चुकी है, और शोभा जी की कैंसर से मृत्यु होने के बाद, उन्होंने दूसरी शादी की जिनका नाम “क्योको” है, जो एक जापानी मूल की है,
सुब्रमण्यम जयशंकर(subramanyam Jaisankarin hindi) की तीन संताने हैं-  ध्रुव, अर्जुन और मेघा, बड़ा बेटा ध्रुव अमेरिका में थिंक टैंक कंपनी के साथ काम करता है, बेटी मेघा लॉस एंजेलिस में फिल्म इंडस्ट्री में कार्यरत है।


सुब्रमण्यम जयशंकर का परिवार
नाम सुब्रमण्यम जयशंकर
पिता का नाम के सुब्रह्मण्यम,
माता का नाम सुलोचना जयसंकर
भाई का नाम ?
बहन का नाम ?
पत्नी / पति का नाम क्योको जयशंकर
बेटे का नाम ध्रुव जयशंकर, अर्जुन जयशंकर
बेटी का नाम मेधा जयशंकर
गर्लफ्रेंड / बॉयफ्रेंड

सुब्रमण्यम जयशंकर जी के कैरियर के बारे में

24 वर्ष की आयु में यह आईएएस बन चुके थे,  विदेश सेवा के 1977 बैच के अधिकारी रहे जयशंकर की पहली पोस्टिंग रूस के भारतीय दूतावास में हुई। वे उससमय के  राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा के प्रेस सचिव भी रह चुके हैं। 
जयशंकर विदेश मंत्रालय में अंडर सेक्रेटरी, अमरीका में भारत के प्रथम सचिव, श्रीलंका में भारतीय सेना के राजनैतिक सलाहकार, टोक्यो और चेक रिपब्लिक में भारत के राजदूत और चीन में भी भारत के राजदूत के रूप में  हैं। चीन के साथ बातचीत के जरिये डोकलाम गतिरोध को हल करने में जयशंकर की बड़ी भूमिका मानी जाती है।
जयशंकर(subramanyam Jaisankar in hindi) ने भारत-अमेरिका असैन्य परमाणु समझौते पर बातचीत में महत्वपूर्ण भूमिका इनके द्वारा निभाई थी। इस समझौते की 2005 शुरुआत में हुई थी,
और 2007 में मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री  की अगुवाई वाली संप्रग सरकार ने इस पर हस्ताक्षर किए थे। जयशंकर को इसी वर्ष पद्मश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुके है,
इन्हें पीएम मोदी के करीबी माने जाते हैं, 2012 में जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में चीन के दौरे पर गए थे, उसी दौरान जयशंकर उनसे मिले थे। दोनों के बीच हुई उस मुलाकात के बाद से जयशंकर, मोदी के विश्वसनीय हो गए।
पीएम मोदी के करीबी होने का अंदाजा इसी बात से लगाया जा रहा है, कि बतौर विदेश सचिव जयशंकर  (subramanyam Jaisankar)जी का कार्यकाल 2017 में ही समाप्त होने वाला था, लेकिन उनके कार्यकाल का समय बढ़ा दिया गया। वो 2015 से 2018 तक भारत विदेश सचिव रहे।
पीएम मोदी की 2018 तक की लगभग हर विदेश यात्रा के दौरान जयशंकर जी उनके साथ रहे। सितंबर 2014 में प्रधानमंत्री के रूप में पीएम मोदी की पहली अमेरिका यात्रा की योजना तैयार करने और इसे सफल बनाने में एस जयशंकर जी ने ही अहम भूमिका निभाई थी।
सेवानिवृत्ति के बाद, जयशंकर(subramanyam Jaisankar) ग्लोबल कॉरपोरेट मामलों के अध्यक्ष के रूप में टाटा संस के साथ कार्य करने लगे ।  2019 में, उन्हें भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से सम्मानित किया गया।
30 मई 2019 को, उन्हें नरेंद्र मोदी के दूसरे मंत्रालय में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ दिलाई गई । जयशंकर(subramanyam Jaisankar) जी को 31 मई 2019 को विदेश मंत्री बनाया गया। वह कैबिनेट- स्तर पर विदेश मंत्रालय के प्रमुख बनने वाले पहले पूर्व विदेश सचिव हैं । और आज भी वह अपने इस विदेश मंत्रालय का कार्यभार एक विदेश मंत्री के तौर पर वाहन कर रहे हैं और इनकी यात्रा अभी सतत रूप से चल रही है|


सुब्रमण्यम जयशंकर से संपर्क कैसे करे

“सुब्रमण्यम जयशंकर से संपर्क कैसे करें – How to contact Subramanyam Jaisankars हर प्रशंसक (Fans) चाहता है, कि वह अपने पसंदीदा राजनीतिज्ञ से संपर्क करें, लेकिन क्या आप लोग जानते हैं, कि राजनीतिज्ञ अपने सुरक्षा कारणों की वजह से कॉन्टैक्ट डीटेल्स सभी से छुपाते हैं। सामान्यता प्रशंसक अपने पसंदीदा राजनीतिज्ञ से संपर्क करने के लिए सोशल मीडिया (Social media) का ही उपयोग करते हैं, तो आज हम आपको सुब्रमण्यम जयशंकर (Subramanyam Jaisankars in hindi)से संपर्क करने के लिए कुछ संपर्क साधनों में के बारे में बताएंगे ।”