Menaka gandhi bio & wiki in hindi | मेनका गांधी हिंदी में

  मेनका गांधी के जीवन, विकी ,जन्म, परिवार, शिक्षा, विवाद, केरियर, परोपकार नेटवर्थ आदि (Maneka Gandhi life, wiki, birth, family, education, controversies, career, philanthropy net worth in hindi)

आज हम भारतीय राजनीति की एक खुद प्रसिद्ध राज नेत्री मेनका गांधीके बारे में जानेंगे। मेनका गांधी भारतीय राजनीति का एक जाना माना नाम है, जो इंदिरा गांधी के छोटे बेटे स्वर्गीय श्री संजय गांधी जी की पत्नी  है, जो वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी में सम्मिलित है, जिन्होंने अपनी राजनीतिक कैरियर की शुरुआत अपनी स्वयं की एक पार्टी बनाकर कि उसका नाम “संजय विचार मंच” था,
 उन्हें एक पशु संरक्षण और पशु अधिकारों के लिए लड़ने वाली कार्यकर्ता के रूप में भी जाना जाता है, मेनका गांधी जी ने केंद्रीय सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण मंत्री और महिला एवं बाल विकास मंत्री का कैबिनेट में पद निर्वाहन कर चुकी है, तो इस पोस्ट के माध्यम से आज हम मेनका गांधी के जीवन, विकी ,जन्म, परिवार, शिक्षा, विवाद, केरियर, परोपकार नेटवर्थ आदि के बारे में विस्तार से आपको बताएंगे।

1.जन्म शिक्षा और परिवार

2. घर, कार कलेक्शन और नेटवर्थ

3.पति और बच्चे

4. राजनीतिक कैरियर

5.पर्यावरणविद के रूप में

6.संपर्क कैसे करें

7.मेनका गांधी को प्राप्त राजनितिक दायित्व

8. मेनका गांधी प्राप्त अवार्ड

मेनका गांधी का जन्म, शिक्षा और परिवार | Maneka Gandhi’s Birth Education Family in hindi

मेनका गांधी का जन्म 26 अगस्त 1956 को नई दिल्ली में एक सिख परिवार में हुआ था, 2021 में उनकी आयु उम्र 70 वर्ष है, और प्रति वर्ष मेनका गांधी 26 अगस्त को मनाया जाता है। इनका गांधी की राशि कन्या राशि है। 

मेनका गांधी की व्यक्तिगत जानकारी
वास्तविक नाम मेनका गांधी
उपनाम मेनका आनन्द
व्यवसाय राजनेता,लेखिका, पशु अधिकरी
जन्मतिथि 26 अगस्त 1956
जन्मस्थान नई दिल्ली
धर्म सिख-हिंदू
जाति ब्रह्ममन
राशि कन्या
राष्ट्रीयता
उम्र

मेनका गांधी जी के पिता स्व. कर्नल त्रिलोचन सिंह आनंद था, जो सेना में कर्नल की पोस्ट पर कार्यरत है, इनकी माता का नाम अमितेश्वर आनंद है, मेनका गांधी जी के अंकल भी सेना में कार्यरत थे। जिनका नाम मेजर जनरल कपूर था। जो सिख समाज से ताल्लुक रखते थे।

मेनका गांधी की प्रारंभिक शिक्षा हिमाचल प्रदेश के सनवर के लॉरेंस स्कूल से पूर्ण की, जिसके बाद उन्होंने उच्च शिक्षा के लिए लेडी श्री राम कॉलेज में एडमिशन लिया, मेनका गांधी का बचपन से ही मॉडलिंग का बहुत शौक था, जिसके लिए वे कई प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया करते थी।



मेनका गांधी का घर, कार कलेक्शन और नेटवर्थ | Maneka Gandhi’s house, car collection and net worth in hindi

मेनका गांधी के घर कि यदि बात की जाए, तो वे इस समय दिल्ली में निवास कर रही है, और उनके घर का पता 14, अशोक रोड, नई दिल्ली -110 001 हैं। और उनके इस घर की कीमत के बारे में किसी भी प्लेटफार्म पर कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। 
मेनका गांधी के कार कलेक्शन कि यदि बात की जाए तो कार कलेक्शन में टवेरा की कार शामिल हैं। जो उनकी मलिकी की कार हैं, जिसकी कीमत लगभग 11 लाख रुपये है।
मेनका गांधी की नेटवर्थ oneindiadotcom के अनुसार लगभग 38 करोड़ रुपये हैं। 

मेनका गांधी नेट वर्थ
नाम मेनका गांधी
नेट वर्थ (2021) लगभग ३८ करोड़
भारतीय रुपए में शुद्ध मूल्य लगभग ३८ करोड़
व्यवसाय राजनेता,लेखिका, पशु अधिकरी
कार और कार कि कीमत tavera 100000
घर कि कीमत ज्ञात नहीँ है

मेनका गांधी का पति और बच्चे | Maneka Gandhi’s husband and children in hindi

मेनका गांधी के वैवाहिक जीवन के बारे में यदि बात की जाए तो संजय गांधी जी से उनकी मुलाकात उनके अंकल के बेटे की शादी में एक कॉकटेल पार्टी में हुई थी, और वही वे एक दूसरे से परिचित हुए थे लेकिन संजय गांधी जी ने ब्रीफ स्टिंट मॉडलिंग कांटेस्ट के दौरान देखा था, और उन्हें देखते ही संजय को उनसे प्यार हो गया. इसके बाद उन्होंने सन 1974 में मात्र 19 वर्ष की आयु में मेनका ने संजय गांधी से शादी कर ली, 
मेनका गांधी ने सन 1980 में एक बेटे को जन्म दिया इसका नाम वरुण गांधी रखा जो आगे चलकर बहुत ही उम्दा राजनीतिज्ञ है। और वे अपनी माता की तरह ही भारतीय जनता पार्टी से जुड़े हुए हैं।

मेनका गांधी का परिवार
नाम मेनका गांधी
पिता का नाम स्व कर्नल त्रलोचन सिंग आनन्द
माता का नाम अम्तेशर
भाई का नाम ज्ञात नहीं है
बहन का नाम ज्ञात नहीं है
पत्नी / पति का नाम संजय गाँधी
बेटे का नाम वरूण गाँधी
बेटी का नाम
गर्लफ्रेंड / बॉयफ्रेंड

मेनका गांधी का राजनीतिक कैरियर |Political career of Maneka Gandhi in hindi

मेनका गांधी का शादी से पूर्व किसी प्रकार का कोई राजनीतिक बैकग्राउंड नहीं है, लेकिन सभी जानते हैं, कि संजय गांधी तथा गांधी परिवार का एक राजनीतिक बैकग्राउंड है। जब मेनका और संजय गांधी की शादी हुई, उसके उपरांत मेनका गांधी संजय गांधी के साथ राजनीतिक सभाओं तथा रैलियों में हिस्सा लेने लगी।
मेनका गांधी को मॉडलिंग के साथ साथ लेखन का भी शोक था जिसके लिए उन्होंने एक राजनीतिक पत्रिका सूर्या की शुरुआत की, इस राजनीतिक पत्रिका में उन्होंने इंदिरा गांधी का एक इंटरव्यू छपा था जिससे कांग्रेस पार्टी को जनता में अपनी छवि को सुधारने का मौका मिला जो कि 1977 में कॉन्ग्रेस की हार के बाद बनी थी।
20 जून 1980 मेनका गांधी के जीवन का वह पड़ाव था, जिसने अंदर से जब जोड़ दिया, क्योंकि इसी दिन संजय गांधी जी की एक हवाई दुर्घटना, जो नई दिल्ली में सफदरजंग हवाई हवाई अड्डे पर सिर में चोट लगने के कारण हुई थी। संजय गांधी की मृत्यु के बाद मैंने कहा गांधी ने किसी कारणों से गांधी परिवार से अपने सारे रिश्ते तोड़ दिए, और उन्होंने राजनीति में आने का निर्णय लिया।
इसके बाद मेनका गांधी ने किसी पार्टी मैं ना जाकर अपनी स्वयं की एक पार्टी सन 1984 में  बनाई, जिसका नाम संजय विचार मंच था, इस पार्टी ने सबसे पहले आंध्र प्रदेश में चुनाव लड़ा और वहां उन्होंने 4 सीटें जीती।
तत्पश्चात 1988 में संजय विचार मंच का जनता दल के साथ गठबंधन हुआ और इस गठबंधन का महासचिव मेनका गांधी जी को बनाया गया और इस गठबंधन ने 1989 को अपना पहला चुनाव जीता और इसी के साथ मेनका गांधी जी को पर्यावरण मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया जिसका उन्होंने 1989 से 1991 तक 3 साल निर्वहन किया। उन्होंने इस दौरान कई ऐतिहासिक फैसले लिए और उन्होंने ना सिर्फ पर्यावरण और वन्य प्राणियों के संरक्षण के लिए कार्य किया बल्कि उन्होंने ऐतिहासिक इमारतों का भी संरक्षण की ओर ध्यान दिया।
एक ऐसा समय भी आया, जब मेनका गांधी ने एक निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा यह बात है। 1996 की जब मेनका गांधी पीलीभीत से एक निर्दलीय सांसद  चुनी गई। इस दरमियान उन्होंने 1999 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार को बाहर से सपोर्ट किया, जिसके बाद उन्हें  भारतीय जनता पार्टी की सरकार में उन्हें सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था, और उन्होंने नियुक्ति के बाद देश के कल्याण के लिए कई अहम फैसले लिए और उनके इन फैसलों को आज भी सराहा जाता है, इन सब में उनके द्वारा किए गए गोद लेने के नियमों में बदलाव और सड़कों पर रहने वाले बेसहारा बच्चों के लिए हेल्पलाइन नंबर तक की सुविधा मेनका गांधी द्वारा अपने कार्यकाल में की गई थी।
निर्दलीय सांसद के रूप में भाजपा की सरकार की ओर से उन्हें दिए गए सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण मंत्री के पद का बड़ी ही इमानदारी और सजगता पूर्ण निर्वहन करने के बाद, उन्होंने 2004 में पूर्ण रूप से भारतीय जनता पार्टी के एक कार्यकर्ता बन गई, उनके द्वारा किए गए विकास कार्य और फैसलों का ही परिणाम था, कि उन्हें 2004 में पीलीभीत के संसदीय चुनाव में जीत हासिल हुई और उन्होंने 2004 से 2009 तक अपना एक सफल कार्यकाल पूरा किया, इसके बाद उन्होंने अगला अपना लोकसभा चुनाव ओनला लोकसभा सीट से लड़कर एक अच्छी जीत हासिल की, और उनका यह कार्यकाल भी सफल रुप से 2009 से 2014 तक संपन्न हुआ,
 तत्पश्चात उन्होंने 2014 में फिर पीलीभीत से लोकसभा का चुनाव लड़ा और एक शानदार जीत हासिल की जिसके बाद उन्हें मोदी सरकार महिला एवं बाल विकास मंत्री के रूप में कैबिनेट में जगह मिली और इस पद का उन्होंने 2014 से 2019 तक निर्वहन किया।


मेनका गांधी कैरियर
वर्ष लोकसभा सदस्य पार्टी
1989-91 पीलीभीत (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य जनता दल पार्टी के टिकट पर चुने गए
1996-98 पीलीभीत (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य जनता दल पार्टी के टिकट पर चुने गए
1998-99 पीलीभीत (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुने गए
1999-2004 पीलीभीत (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुने गए
2004-09 पीलीभीत (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुने गए
2009-14 आंवला (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुने गए
2014-19 पीलीभीत (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुने गए on
2019–वर्तमान सुल्तानपुर (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से लोकसभा सदस्य भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुने गए।

मेनका गांधी पर्यावरणविद के रूप में | Maneka Gandhi as Environmentalist

अभी तक आपने मेनका गांधी जी की राजनीतिक कैरियर और उनके कार्यों को जाना अब हम आपको मेनका गांधी जी के पर्यावरणविद के रूप में किए गए कार्यों के बारे में बताएंगे, पर्यावरण के क्षेत्र में उनके द्वारा किए गए कार्यों के कारण ही उन्हें “the voice of animal in indian parliament” द्वारा संबोधित किया जाता है। और उनके द्वारा पर्यावरण के क्षेत्र में किए गए कार्य इस संबोधन को सत्य साबित करते हैं।
1992 में मेनका गांधी द्वारा एक एनजीओ की स्थापना की गई, जिसका नाम पीपुल्स फॉर एनिमल है, जिसका मुख्य उद्देश्य पशुओं के अधिकारों के लिए आवाज उठाने और उनके कल्याण के लिए कार्य करना है।
मेनका गांधी को इसी तरह 1995 में जानवरों पर प्रयोगों के उद्देश्य और नियंत्रण और पर्यवेक्षण के लिए समिति (CPCSEA) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। एक पशु अधिकार कार्यकर्ता के रूप में अपने पूरे समय में, गांधी उन प्रयोगशालाओं की जांच में शामिल रही हैं, जहां पशु परीक्षण किया जा रहा था, अधिक जनसंख्या के परिणामस्वरूप मारे गए बेघर कुत्तों की मात्रा को सीमित करने के लिए पशु जन्म नियंत्रण कार्यक्रमों (एबीसी) के लिए दायर किया गया है और अंतर्राष्ट्रीय पशु बचाव संगठन द्वारा नियोजित पहलों में भी शामिल रहा है ।



मेनका गांधी से संपर्क कैसे करें – How to contact menka gandhi’s  

हर प्रशंसक (Fans) चाहता है, कि वह अपने पसंदीदा राजनेता  से संपर्क करें, लेकिन क्या आप लोग जानते हैं, कि एक्टर अपने सुरक्षा कारणों की वजह से कॉन्टैक्ट डीटेल्स सभी से छुपाते हैं। सामान्यता प्रशंसक अपने पसंदीदा एक्टर से संपर्क करने के लिए सोशल मीडिया (Social media) का ही उपयोग करते हैं, तो आज हम आपको सुमोना चक्रवर्ती से संपर्क करने के लिए कुछ संपर्क साधनों में के बारे में बताएंगे ।

घर का पता :- घर का पता 14, अशोक रोड, नई दिल्ली -110 001

ट्विटर पता :- @” @manekagandhibjp

फेसबुक पेज पता :- उपलब्ध नही हैं।

इंस्टाग्राम पता :- उपलब्ध नही हैं।

मोबाइल नं :- उपलब्ध नही हैं।

घर का पता :- उपलब्ध नही हैं।

विकिपीडिया हिंदी :- @ उपलब्ध नही हैं।

विकिपीडिया अंग्रेजी :- @ Manekagandhi


मेनका गांधी को प्राप्त राजनितिक दायित्व
साल पार्टी दायित्व
1988 जनता दल महासचिव
1984 संजय विचार मँच सांस्थापक अध्यक्ष
1989 जनता दल सरकार केंद्रीय पर्यावरण एवम्‌ वन मंत्री
1998 केंद्र सरकार केंद्रीय सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण मंत्री
2002 केंद्र सरकार विदेश मंत्रालय कि समिति सदस्य
2004 केंद्र सरकार स्वास्थ्य और परिवार कल्याण समिति सदस्य
2004 केंद्र सरकार सलाहकार समिति सदस्य
2004 केंद्र सरकार पर्यावरण एवम्‌ वन मंत्रलय सदस्य
2007 भाजपा सरकार स्वास्थ्य और परिवार कल्याण समिति सदस्य
2009 केंद्र सरकार रेल्वे समिति सदस्य
2014 भाजपा सरकार महिला एवं बाल विकास मंत्री


मेनका गांधी प्राप्त अवार्ड
साल पुरस्कार संस्था
ज्ञात नहीं है २०,००० डॉलर के चेक के साथ शाइनिंग वर्ल्ड कम्पैशन अवार्ड सुप्रीम मास्टर चिंग हाई इंटरनेशनल एसोसिएशन
1992 लॉर्ड एर्स्किन पुरस्कार आरएसपीसीए
1994 पर्यावरणविद् और शाकाहारी 1994
1996 प्राणि मित्र पुरस्कार
1996 महाराणा मेवाड़ फाउंडेशन पुरस्कार पर्यावरण कार्य के लिए
1997 मार्चिग एनिमल वेलफेयर एंड सेलिंग प्राइज स्विट्ज़रलैंड
1999 लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड वेणु मेनन एनिमल अलायंस फाउंडेशन
1999 भगवान महावीर फाउंडेशन पुरस्कार सत्य, अहिंसा और शाकाहार के क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए
1999 देवालीबेन चैरिटेबल ट्रस्ट अवार्ड देवालीबेन चैरिटेबल ट्रस्ट
2001 वर्ष 2001 की महिला पुरस्कार अंतर्राष्ट्रीय महिला संघ,चेन्नई
2001 दीनानाथ मंगेशकर आदिशक्ति पुरस्कार, पर्यावरण और पशु कल्याण के क्षेत्र में
ज्ञात नहीं है रुक्मिणी देवी अरुंडेल पशु कल्याण पुरस्कार
2008 ए.एस.जी. जयकर पुरस्कार